Skip to main content

काश फिर मिलने की वो वजह मिल जाये







काश फिर मिलने की वो वजह मिल जाये,
तेरे संग बिताये वो पल मिल जाये 
बातों बातों में जो बालियाँ कानो की खींची थी,
रोई थी जब मैं, गीली आँखे मींची थी,
कान पकड़ कर वैसे फिर से मुझे मनाये,
काश फिर मिलने की वजह मिल जाए,

पुलिया पर लटकते हमारे पाँव,
सपनो की दुनिया का चक्कर लगाते,
चूंटी काट फिर तुम मुझे,
वापस यहीं ले आते थे,
कब, कैसे, बादलों की गुडिया बना देते तुम,
जो पूंछू मैं, तो मुंह बना देते थे,
वो बादलों की गुड़िया मिल जाये,
काश फिर मिलने की वजह मिल जाए … 


आज कमर से भी लम्बी है मेरी चोटी ,
पर खींचने वाले तुम नहीं,
देखती हूँ तुमको कभी, छुप कर, यूँ ही,
पर बचपन वाला यूँ नहीं,
कद बड़ा तो बढ़ गए फासले भी ,
न कच्ची कैरियां, ना वो त्योरियां अब,
कान की बालियाँ कभी जो खिंच जाए,
वो सिसकियाँ कहे,
काश फिर मिलने की वजह मिल जाए ...

Comments

  1. amazing poem !! wonder love not as same as in childhood .. how rightfully depicted !! very very nicely expressed! Suppa Like ! :)

    ReplyDelete
  2. काश! वो पुराने दिन आपको मिल जाते.
    सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  3. kya baat hai ... unparallelled

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सलाहों का बंदरबाट

एक तो काले रंग में दाग वैसे ही नज़र नहीं आते और उसपर न्याय की मूर्ती को अँधा और बना दिया गया, की बस जनाब सालो साल खेलते रहिये आँख मिचोली और देखते रहिये बंदरबांट सलाहगारो और मददगारो के बीच, फिर अगर उस सलाह से कुछ मदद मिल जाए तो खुदा का शुक्र मनाइये और आपको बचाने वाले से जीवन भर की बची कुची बचत पर चपत लगवा कर बाकी वक़्त बिता लीजिये। निष्पक्ष और न्यायप्रिय ठेकेदार सदैव आपकी सेवा में तत्पर रहेंगे चाहे आप कुछ भी कर लें, वे अपने साथ पक्षपात कभी नहीं होने देंगे और आपके पूर्वानुमान, अधकचरे ज्ञान को तारीखों की धीमी आंच पर तपा देंगे की आप पक्ष और विपक्ष का ही सही अनुमान लगाते रह जायेंगे। बस इसलिए वक़ालत नही कर पाए! 

अधूरा

शाख से टूटे पत्ते आ कर मेरी गोद में गिरे थे, पीले, चुरमुरे, रंगमिटे से  आज उनमे से एक पत्ता किताब के पन्नो के बीच मिल गया, भूरा, चुरमुरा, अधूरा सा, ठीक वैसा ही ठहरा जैसे वो पल ठहरा है जब बारिष से पहले  ज़ोरों कि हवा में उलझ गयी थी मेरी लटें, और सुलझाने के बहाने तुमने गालों को छुआ था मेरे, हाँ, वो पल, वैसा ही है , मटमैला, चुरमुरा और अधूरा..

ए वक्त ,तू गवाह है

ऐ वक्त, तू गवाह है.. कभी वो सजी हुई वैश्या सा बिछा है मेरे आगे.. और ये भी तूने देखा है, कैसै सुबह के सूरज सा जला है वो देखा है यह भी  बनारस के पाखंडी सा घूनी रमा और जो फिर हर रात वो गले में इतर, होंठ लाल कर एक नई कली मसलने चला.. देखा है तूने मुझे भी उसके सिर को रखा है गोद में एक माँ की तरह और परोसा है खुद को मैने भरे वॅक्षो से मेघ की तरह ए वक्त ,तू गवाह है वो बिछा है मेरे आगे, वेश्या की तरह.. मुड़ा ना वो, गुजरा जब मेरे  शामियाने से आगे, नज़रें बचा फिर भी गिरी उसकी निगाहें कनखियों से हमपर  के देख ना लूँ मैं कहीं उसके कुर्ते पर पड़े नयी कली के निशान.. मेरे खरीदार ने निभाये हैं किरदार कई, कभी मेरी तरह, कभी अपनी तरह... 5/1/2014