Wednesday, 3 April 2013

सलमान-वीर्य-उत्पादित-संतान

जब भी मैं ये सुनती हूँ "देश के युवा नेता राहुल गाँधी" मुझे जोर से हंसी आ जाती है।
अच्छा मज़ाक है।

नहीं, मैं राजनीती के खिलाफ नहीं हूँ, न ही मैं किसी व्यक्ति विशेष पर टिप्पणी कर रही हूँ और ना ही मैं किसी राजनितिक पार्टी की कार्य क्षमता व शैली में नुक्स निकाल रही हूँ। यहाँ घर चलन मुश्किल होता है, वो तो सारा देश चलते हैं।
आज राहुल बाबा का ज्ञान वितरण दिवस है तो बस कुछ पुरानी यादें ताज़ा हो गयी।
लोगों को अक्सर गलत फ़हमी हो जाती है 'युवा नेता' 42 साल का कैसे?
दिल तो बच्चा है जी!! 
वो युवा नेता इसलिए कहलाते हैं क्यूंकि उनके साथ युवा फौज है। और वो कैसे है ये आप सभी जानते हैं।

"पॉवर" एक नशा है ये सभी जानते हैं, और इसका dose बूँद बूँद कर हमारी रगों में दल जाता है। कैसे?
भूल गए अपनी कॉलेज लाइफ? जब फर्स्ट इयर में स्टूडेंट पॉलिटिक्स का झंडा उठाये पूरे कॉलेज में चिल्लाते थे?
किस तैश में घुमते थे की कॉलेज का प्रेजिडेंट तुमको जनता है? फिर कॉलेज में NSUI या ABVP प्रेजिडेंट आ जाये तो कैसे "भाई भाई' कर के दुम हिलाते थे?
नहीं इसमें आपकी कोई गलती नहीं है,अब आप बड़े हो चुके हैं।
राहुल गाँधी के साथ सिर्फ वोही युवा हैं जो इस फ़्लैश लाइट से चकाचौंध हो जाते हैं। teenage!
सेंसिबल और well educated यूथ अपने आप को स्टूडेंट पॉलिटिक्स से हमेशा दूर रखता है और हम में से हर वो युवा पॉलिटिक्स से घृणा करता है जिसको ये पता है "यहाँ कोई किसी के लिए कुछ नहीं करता"
सच कहूँ तो देख कर दुःख होता है, कैसे कुत्तो की तरह आगे पीछे घूमता है  आज का युवा!
कारण समझ नहीं पाई!
Political support का टशन ?
बैक एंड जैक की थ्योरी ?
"काम निकलवा लेने" की तरकीब?
या The Charm of Power to attract the opposite gender ?
Attendance / Internals / Assignments or Admission से शुरू होने वाला "system" आगे कहाँ तक जाता है ये आप सभी जानते हैं! College Administration एंड Student Admission का "Suck Money Theorem" आज "कालाधन आन्दोलन" बन चूका है।
नीव खोखली कर के political-drugs का चस्का बुढ़ापे तक नहीं जाता ये किसी को नहीं दिखता , लेकिन हाँ, मोर्चा लिए "भ्रष्टाचार हटाओ आन्दोलन " में सफ़ेद half-pant पेहेन कर जरूर जायेंगे।

 कॉलेज की "Trilogy of Political Drugs" Amish Tripathi के 'बम भोले ' से दुगनी बिकेगी अगर लिखी जाये!
क्यूंकि आखिर में मिलता क्या है? ये 3-4 साल बर्बाद करने वाले उस  "युवा'' से पूछिए  जो आज  उसी राजनीति को देश तबाह करने के लिए कोसता है!

खैर, तब तो हम भी बच्चे थे जब हमने अपने पापा-चाचा को RWA President ,municipal counselor Mayor और नेताजी के सामने 'सर-सर-सर-सर' करते सुना था!
पतानहीं उनका "College Fever " नहीं उतरा या "Genetic Disease" बन गया !

वैसे मैं उनकी बात नहीं कर रही जो बालो को ब्लीच करवा कर,जीन्स को ब्लेड से फाड़ कर, ब्लैक एविएटर लगा कर अपने आपको "सलमान-वीर्य-उत्पादित-संतान " समझते हैं!
आप ही असली "युवा" हैं, राहुल बाबा आपके "youth icon"
लगे रहो! 

1 comment:

  1. you are truly a just right webmaster. The web site loading pace is amazing.
    It kind of feels that you're doing any distinctive trick.
    In addition, The contents are masterwork. you have performed a magnificent task on this subject!


    my site - จำนองที่ดิน

    ReplyDelete